बरसात में कटहल की खेती से बढ़िया मुनाफा कमाएंगे किसान, जानिए तरीका

भारत में कटहल की फसल को बड़े पैमाने पर खेती की जाती है. इसे विश्व का सबसे बड़ा फल भी कहते है. कटहल में आयरन, कैल्शियम और पौटेशियम जैसे तत्व होते हैं जो कि जो स्वस्थ रखने में फायदेमंद हैं.

कहीं भी कर सकते हैं कटहल की खेती

कटहल की खेती को सभी तरह की भूमि में कर सकते है, किन्तु बलुई दोमट मिट्टी को इसकी फसल के लिए काफी उपयुक्त माना जाता है. इसके अलावा इस बात का विशेष ध्यान रखे की भूमि जल-भराव वाली न हो. इसके खेती में भूमि का P.H. मान 7 के आस-पास होना चाहिए . इसकी खेती जून से सितंबर महीने में की जा सकती है.

सम्बंधित ख़बरें Aloevera Cultivation: एक बार ये फसल लगाकर हो जाएं बेफिक्र, लगातार 5 साल तक खूब कमाएं पैसा! Medicinal Plant Cultivation: अगस्त में इन औषधीय पौधोें की खेती कर मालामाल हो जाएंगे किसान! Farming Tips: इस पेड़ की खेती से करोड़पति बन सकते हैं किसान, महज 12 साल में होगा बंपर मुनाफा Rose Flower Care Tips: बरसात में नहीं बर्बाद होगी गुलाब की खेती, नुकसान से बचने के लिए किसान अपनाएं ये तरीके PM Kisan Yojana: आखिरी मौका! आज ही कर लें ये काम वर्ना पीएम किसान योजना की 12वीं किस्त से रह जाएंगे वंचित सम्बंधित ख़बरें Aloevera Cultivation: एक बार ये फसल लगाकर हो जाएं बेफिक्र, लगातार 5 साल तक खूब कमाएं पैसा! Medicinal Plant Cultivation: अगस्त में इन औषधीय पौधोें की खेती कर मालामाल हो जाएंगे किसान! Farming Tips: इस पेड़ की खेती से करोड़पति बन सकते हैं किसान, महज 12 साल में होगा बंपर मुनाफा Rose Flower Care Tips: बरसात में नहीं बर्बाद होगी गुलाब की खेती, नुकसान से बचने के लिए किसान अपनाएं ये तरीके PM Kisan Yojana: आखिरी मौका! आज ही कर लें ये काम वर्ना पीएम किसान योजना की 12वीं किस्त से रह जाएंगे वंचित
कैसा जलवायु आवश्यक

कटहल की फसल के लिए गर्म और आद्र जलवायु को काफी उपयुक्त माना जाता है.इसके पौधे अधिक गर्मी और वर्षा के मौसम में आसानी से वृद्धि कर लेते है, किन्तु ठण्ड में गिरने वाला पाला इसकी फसल के लिए हानिकारक होता है . इसके साथ ही 10 डिग्री से नीचे का तापमान पौधों की वृद्धि के लिए हानिकारक होता है. कटहल का पौधा एक बार तैयार हो जाने पर कई वर्षो तक पैदावार देता है .

कटहल का कैसे करते हैं उपयोग

कटहल के फलों को विकास के साथ कई प्रकार से उपयोग में लाया जाता है. मध्यम उम्र के फल, जिसे सब्जी के लिए प्रयोग किया जाता है, को उस समय तोड़ना चाहिए जब उसके डंठल का रंग गहरा हरा, गूदा कठोर और कोर मलायम हो. इसके अलावा अगर आप कटहल के पके फलों का सेवन करना चाहते हैं तो इसे फल लगने के तकरीबन 100-120 दिनों बाद तोड़ना चाहिए. बता दें कि अगर कटहल की खेती बड़े स्तर पर की जाए तो किसान आराम से सालाना 8 से 10 लाख तक मुनाफा हासिल कर सकते हैं.

 

Leave a comment

Email của bạn sẽ không được hiển thị công khai.